Ticker

6/recent/ticker-posts

ICU Ka Full Form (आईसीयू फुल फॉर्म क्या है )

आज के मेरे पोस्ट का विषय ICU Full Form in Hindi, ICU Ka Full Form Kya Hai, ICU का Full Form क्या है, ICU Ka Poora Naam Kya Hai, आईसीयू की फुल फॉर्म क्या है, ICU का पूरा नाम  है। आप सभी का मेरे वेबसाइट पर हार्दिक स्वागत है। 


ICU को  CRITICAL CARE UNIT  के रूप में भी जाना जाता है। यह किसी भी अस्तपाल का विशेष भाग होता है। जिसमे गहन  चिकिस्ता और देखभाल किया जाता है। ICU में उन्ही मरीजों  रखा जाता है जो विशेष निगरानी के लायक होते है ,जिन्हे डॉक्टर और नर्स की देखभाल में रहना होता है।ICU में उन्ही मरीजों  रखा जाता है जिसकी लगातार हालत खराब होती जा रही है।  वो बच्चे जो समय से पहले पैदा होते है या जो जंन्म के साथ बीमारी के साथ पैदा होते ,उनको भी ICU में रखा जाता है। जिसे NICU कहते है। जिसका फुल फॉर्म  NEONATAL INTENSIVE CARE UNIT  होता है।ICU का फुल फॉर्म/ICU FULL FORM   INTENSIVE CARE UNIT  होता है। 








ICU FULL FORM /आईसीयू फुल फॉर्म क्या है

ICU का फुल फॉर्म 'INTENSIVE CARE UNIT' होता है। जिसे 'CRITICAL CARE UNIT' भी कहा जाता है। शिशु के लिए बने ICU को 'NEONTAL INTENSIVE CARE UNIT' कहते है। 


ICU मे विभिन्न चिकित्सा उपकरण

ICU मे इस्तेमाल होने वाले विभिन्न चिकित्सा उपकरण नीचे दिए गए है।
  • Feeding Tubes, Suction Tubes ETC इसका उपयोग मरीज के शरीर में खाना पहुँचाने के लिए किया जाता है। 
  • Mechanical Ventilators इसका उपयोग तब किया जाता है जब मरीज को सांस लेने में परेशानी  होती है।  
  • Dialysis Machine  इसका  उपयोग मरीज की शरीर से Blood निकलकर उसे  साफ करके पुन: उसके शरीर में डालने के लिए किया जाता है। 

  • Syringe Pump
  • Infusion Pump
  • Defibrillator
  • Patient Monitor
  • External Pacemakers
  • Anesthesia Machine
  • ECG (Electrocardiogram)


ICU मे रोगी को कब भर्ती होते  है


परिस्थिति के अनुसार ICU में भर्ती किया जाता है जिसमे रोगी को ICU में भर्ती किया जाता है जैसे कि नीचे दिए गए परिस्थिति के अनुसार 

  • किसी व्यक्ति को बड़ा हार्ट अटैक आया हो तो ऐसी स्थिति में व्यक्ति को ICU में भर्ती किया जाता है। 
  • रोगी कोमा में पहुंच गया हो तो ऐसी स्थिति में रोगी को ICU में भर्ती किया जाता है। 
  • रोगी की किडनी फेल हो जाये तो ऐसी स्थिति में रोगी को ICU में भर्ती किया जाता है। 
  • रोगी का लिवर काम करना बंद कर दे तो ऐसी स्थिति में रोगी को ICU में भर्ती किया जाता है। 
  • अगर कोई ऐसा व्यक्ति जिसका ब्लड प्रेशर बहुत ज्यादा कम हो जाता हो तो उस स्थिति में व्यक्ति को ICU में भर्ती किया जाता है। 
  • व्यक्ति का गंभीर एक्सीडेंट हुआ हो या सांस ना आ रही हो तो ऐसी स्थिति में व्यक्ति को ICU में भर्ती किया जाता है। 


ICU की विशेषताएँ



  • Mobile Intensive Care Unit (MICU) - यह एम्बुलेंस होती है इसमें ICU के सभी उपकरण पहले से ही मौजूद होते है और एक डॉक्टरों की टीम भी इसमें मौजूद होती है। इसमें मरीज के इलाज का वक्त न निकल जाये और बिना वक्त गवाए इसमें मरीज का इलाज किया जाता है। 

  • Neonatal Intensive Care Unit (NICU) - NICU का उपयोग नवजात जन्मे बच्चो से जुडी बीमारीयों का इलाज करने व उनकी देखभाल करने के लिए किया जाता है। इसमें सिर्फ केवल उन्ही नवजात जन्मे बच्चो का इलाज होता है जिन्होंने जन्म के बाद अब तक अस्पताल से छुट्टी नहीं ली हो। 
  • Pediatric Intensive care unit (PICU) - PICU में अस्थमा, इन्फ्लूएंजा, मधुमेह केटोएसिडोसिस, दर्दनाक मस्तिष्कऐसी बहुत सी बीमारियों का इलाज होता है। 
  • Psychiatric intensive care unit (PICU) - PICU में उन मरीज का इलाज किया जाता है जो मानसिक रूप से बीमार होते है और अपने आपको नुकसान पहुचाते है। 
  • Coronary care unit (CCU) - CCU में जन्मजात ह्रदय रोग और ह्रदय से जुडी बीमारीयों का इलाज किया जाता है। 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां