Ticker

6/recent/ticker-posts

GPS Full form In Hindi | GPS क्या है?

आज के पोस्ट का विषय जिसके बारे में जरूर कही न कहि आपने भी सुना होगा। आज के पोस्ट का विषय GPS क्या है? या GPS Full form In Hindi  है। क्या वास्तव में आप भी नहीं जानते तो आपको मेरे इस पोस्ट को पढ़ के सम्पूर्ण जानकारी मिलेगी। बहुत पुराने समय हम इंसान तारो को देख कर दिशा तय करते थे। 



GPS Full form In Hindi


जीपीएस का फुल फॉर्म हिंदी में ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम होता है। GPS Full form in English GPS (Global Positioning System) होता है। 



GPS Meaning in Hindi




GPS का मतलब होता है ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम , जो की एक रेडियो नेविगेशन प्रणाली होती है जो कुल मिला कर  24 Satellites ka network समूह होता है। उस समूह को धरती के orbit में रखा गया है। GPS को मुख्य रूप से  Department of Défense US ने बनाया था। इसका मुख्य रूप से military applications में इस्तमाल करने के लिए  बनाया गया था ।साल 1980 में, सरकार ने इस system को आम लोगों के इस्तमाल के लिए उपलब्ध कर दिया। साल 1960 में अमेरिकी नौसेना के जहाजों को और अधिक सटीक रूप से नेविगेट करने में मदद करने के लिए विकसित किया गया था।

जिसकी सहायता से दुनिया में कहीं भी या जहा आप इस्तेमाल करना चाहे ,चाहे कैसा भी मौसम रहे  जमीन, समुद्र और हवाई मार्ग का इस्तेमाल करने वाले उपयोगकर्ता को उनके सटीक स्थान, गति और दिन के 24 घंटे का समय इस्तेमाल के लिए निर्धारित करने की अनुमति देता है।GPS का उपयोग सैन्य, वाणिज्यिक और उपभोक्ता एप्‍लीकेशन की एक विस्तृत श्रृंखला का समर्थन देने के लिए किया जाता है।


Basic structure of GPS

GPS के बुनयादी संरचना तीन भाग में होती है। जो की नीचे वर्णित है। 

1.SPACE SEGMENT 
2.CONTROL SEGMENT 
3.USER SEGMENT 


SPACE SEGMENT 

बहुत से GPS सैटेलाइट्स, जो की लगभग 20,000 किलोमीटर (एक ऑर्बिट में चार GPS सैटेलाइट्स) की ऊंचाई पर पृथ्वी के चारों ओर छह अलग अलग ऑर्बिट पर होते हैं, और 12 घंटे के अंतराल पर पृथ्वी के चारों ओर चककर लगाते है। 


CONTROL SEGMENT

इस सेगमेंट में ऑर्बिट को मॉनिटर, कंट्रोल और मेंटेंन किया जाता है ,जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि ऑर्बिट से सैटेलाईट्स के विचलन और साथ-साथ जीपीएस टाइमिंग टॉलरेंस लेवल के भीतर ही रहे। 


USER SEGMENT 

इस सेगमेंट में  सैटेलाइट्स के माध्यम से भेजी गई सिगनल को प्राप्त किया जाता है। इस लिए इसे जीपीएस Receivers भी कहा जाता है। 


GPS के उपयोग

GPS के अनेक Uses हैं, लेकिन यहाँ नीचे हम प्रमुख पांच को वर्णित कर रहे है और key uses के विषय में जानेंगे.

1. Location     एक Position को आसानी से पहचानना। 

2. Navigation  इसकी सहायता से एक Location से दुसरे में तक जाना। 

3. Tracking     किसी भी Object या Personal Movement को Monitoring करना। 

4. Mapping      दुनिया के किसी जगह की Maps Create करना। 

5. Timing          इसकी मदद से मुमकिन करना Precise Time दिए गए समय के अंदर  Measurements को। 

 

जीपीएस क्या काम आता है?

1. Emergency Response में : जब कहीं पर emergency या प्राकृतिक विपदा होती है, तब पहले responders इस्तमाल करती हैं GPS का वो भी मौसम की mapping, following और predicting करने के लिए, और साथ में इसकी मदद से emergency personnel के ऊपर नज़र रखा जा सकता है उनकी safety के बारे में जानने के लिए। 

2. Entertainment: GPS का इस्तमाल काफी सारे activities और games जैसे की Pokémon Go और Geocaching में भी किया जाता है.

3. Health और Fitness Technology में : जीपीएस को Smartwatches और wearable technology में भी इस्तेमाल किया जाता है। जिससे track लिया जा सके  fitness activity को जैसे की कितने miles आपने run किया कुल मिलकर।  

4. Construction: जीपीएस का इस्तेमाल  Locating Equipment में भी किया जाता है, जिससे की Measuring और Improving Asset Allocation को बेहतर किया जा सके, GPS Tracking मदद करती है। 

5. Transportation: Logistics companies भी GPS को Implement करती हैं जिससे वे अपने telematics systems को वो improve कर सकें Driver Productivity और Safety को बढ़ा सके। 


  • इसे भी पढ़े 





उम्मीद करता हु आपको ये पोस्ट पसंद आया होगा। पसंद आने पर शेयर और फॉलो जरूर करे। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ