usb ka full form kya hai-USB IN HINDI

Usb Ka Full Form Kya Hai-आप सभी लोग USB का इस्तेमाल करते है लेकिन क्या आप जानते है , इसके फुल फॉर्म के विषय में साथ ही इसके टाइप के बारे में , आज के समय में लगभग सभी लोग इसका इस्तेमाल करते है , इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से कंप्यूटर ,स्मार्ट टेलीविज़न में भी किया जाता है ।

बहुत से लोग के इस्तेमाल करने के बाद भी इसके फुल फॉर्म और इसके टाइप के बारे में पूर्ण जानकरी नहीं होता है । आज के पोस्ट में उन सभी सवालो के जबाब देने का प्रयास करुगा , कृपया पोस्ट को पूरा पढ़े ।

USB KA FULL FORM KYA HAI – USB KA PURA NAAM

USB KA FULL FORM KYA HAI

USB IN HINDI – USB KA FULL FORM KYA HAI , चलिए जाने इसका फुल फॉर्म हिंदी और इंग्लिश में ,इंग्लिश में USB KA FULLFORM- Universal Serial Bus होता है , और हिंदी में इसका फुल फॉर्म यूनिवर्सल सीरियल बस ही होता है ।

USB क्या है-USB in Hindi

यह एक साधारण केबल कनेक्शन होता है जो किसी भी कंप्यूटर और कंस्यूमर के उपकरण के बीच कनेक्शन को बनता है , यह एक ऐसा तकनीक है जिससे हम एक किसी डाटा या पावर को एक उपकरण से दूसरे उपकरण में भेज सकते है। अगर आप कंप्यूटर का प्रयोग करते है तो USB का इस्तेमाल तो जरूर किया ही होगा।

इसकी मदद से हम आजकल अपने स्मार्ट फ़ोन को चार्ज कर सकते है , वे उपकरण जिसमे पावर या डाटा होता है USB की सहायता से  एक दूसरे उपकरण से जुड़ सकते है या अपने में डाटा का लेन देन कर सकते है।यह शार्ट डिस्टेंस डाटा को ट्रांसफर करने के लिए इस्तेमाल होता है । इसके मदद से Digital Data transfer- किया जाता है दो डिवाइस के बीच में । जो डिवाइस इस केबल के माध्यम से एक दूसरे से कनेक्ट किये जाते है ।

TYPE OF USB IN HINDI

USB को “1996” में पहली बार सार्वजनिक किया गया था। तब से अब तक इसके 5 संकरण बज़ार में आ चुके है। किसी भी USB  डिवाइस में वायर और वायरलेस दोनों तरह के वर्शन आते है । केबल के माध्यम से काम करने वाले USB- में केबल और USB- पोर्ट दोनों आते है ।

USB 1.0 – TYPE OF USB IN HINDI

यह USB  का सबसे पहला सार्वजनिक संकरण था। इसकी डाटा ट्रांसफर करने की छमता 1.5 Mbit/s थी। इसको साल 1996- में बाजार में लंच किया गया था ।

USB 1.1 – TYPE OF USB IN HINDI

यह USB  का दूसरा सार्वजनिक संकरण था। इसकी डाटा ट्रांसफर करने की छमता 12 Mbit/s थी।इसे साल 1998 में सार्वजनिक किया गया था।इसके होस्ट के माध्यम से पेरिफेरल में  2.5V और 500mA का पॉवर भी Supply किया जा सकता था।  

USB 2.0 – TYPE OF USB IN HINDI

इसे साल 2000 में सार्वजनिक किया गया था। यह USB  का तीसरा सार्वजनिक संकरण था।यह USB का सबसे कामयाब संकरण था।  इसकी डाटा ट्रांसफर करने की छमता 480 MBit/s है और इसके होस्ट के माध्यम से पेरिफेरल में  2.5V और  1.8 A का पॉवर भी Supply किया जा सकता था।  

USB 3.0 – TYPE OF USB IN HINDI

यह USB  का चौथा  सार्वजनिक संकरण था। इसकी डाटा ट्रांसफर करने की छमता 5Gbit/s थी।इसे साल 2008 में सार्वजनिक किया गया था।इसके होस्ट के माध्यम से पेरिफेरल में  2.5V और 500mA का पॉवर भी Supply किया जा सकता था।  

USB 3.1  – TYPE OF USB IN HINDI

इसे साल 2013  में सार्वजनिक किया गया था।यह USB  का पांचवा सार्वजनिक संकरण था।  इसकी डाटा ट्रांसफर करने की छमता 10 Gbit/s थी।  

USB Ports Devices में कहाँ होते हैं?

आज के समय में सभी गतरह के कंप्यूटर में उसब पोर्ट होता ही है , लेकिन वे कहा होते है इसके बारे में आपको बताते है ।

1- Desktop computer– सामने की तरफ में 2 से 4 पोर्ट होते है , इसके साथ ही पीछे की तरफ में भी 4 पोर्ट होते है ।

2-Laptop computer– आज के समय में आने वाले लैपटॉप में USB- पोर्ट साइड में होते है , जो की 1 से लेकर 4 तक होते है ।

3-Tablet computer– इसमें मुख्य रूप से चार्जिंग पोर्ट ही USB- पोर्ट होता है।

4-Smartphone– इसमें भी चार्जिंग पोर्ट ही USB-PORT होते है ।

FEW USB DEVICE NAME – USB IN HINDI

आज के समय में सभी लोग USB- डिवाइस का इस्तेमाल करते है । कुछ USB- डिवाइस के नाम निचे वर्णित है ।

S.NOUSB DEVICE NAME
1Digital Camera
2iPod or other MP3 player
3External drive
4Keyboard
5MICRO PHONE
6Mouse
7Printer / PENDRIVE
8Scanner
9MOBILE PHONE / SMART MOBILE PHONE / TABLET
10Webcams

USB On-The-Go (OTG) क्या है

यह मोबाइल फ़ोन में इस्तेमाल होने वाली नै तकनीक है जो मोबाइल फ़ोन को USB- डिवाइस के साथ कनेक्ट करने की सुविधा को देती है ।

SOME FACTS ABOUT USB IN HINDI

  • 👉USB  का इस्तेमाल कंप्यूटर में सबसे ज्यादा होता है।
  • 👉 USB 3.0 के अपने पोर्ट का COLOUR नीला होता है जिससे इसे आसानी से पहचाना जा सकता है।
  • 👉 USB को आजकल इस्तेमाल होनेवाला लगभग हर operating system सपोर्ट करता है ।

USB के Advantages क्या हैं ?

1-USB – डिवाइस की सबसे बड़ी एडवांटेज है की उसको इस्तेमाल करना सबसे आसान होता है ।

2-USB- डिवाइस का छोटे साइज का होना भी इसके एडवांटेज ही है । जिससे कहि भी लेकर जाने में परेशानी नहीं होती है ।

3-मल्टीप्ल डिवाइस के लिए भी इसका सिंगल इंटरफ़ेस का यूज़ होना भी इसके एडवांटेज ही है ।

4-एक बार किसी भी डिवाइस में इसके सॉफ्टवेयर या ड्राइवर के इनस्टॉल कर देने के बाद इसे आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है । बिना कोई परेशानी के ।

5- सबसे बड़ी एडवांटेज किसी भी तरह के एक्सटर्नल पावर सोर्स के इस्तेमाल के बिना ही इसके ऑपरेट किया जाता है ।

6- इसमें डाटा ट्रांसफर करने की स्पीड भी अच्छी होता है , जो की 1.5Mbit/s से 10Gbit/s  तक के स्पीड से डाटा को ट्रांसफर कर सकते है ।

7- इसके कम दाम में आना भी ये इसका एक एडवांटेज ही है ।

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको  Information ON USB  ,ABOUT USB & USB IN HINDI और उससे जुडी जानकारी प्राप्त करवाया है और उम्मीद करता हु की ये पोस्ट पसंद आएगा। और भी कुछ अगर जानना हो तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर पूछ सकते है और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो कृपया करके फॉलो और शेयर करे।  

READ MORE ON GYANTECH

capacitor meaning in hindi -Capacitor का क्या काम

amplifier kya hota hai ।एम्पलीफायर क्या होता है के बारे मे पूरी जानकारी

mcb kya hai । What is MCB in Hindi

computer in hindi language । computer ka history in hindi

Computer networks क्या है ? । Types of Network

Leave a Comment

Kaju khane ke fayde in hindi Jeera khane ke fayde haldi wala dudh peene ke fayde